सोमवार, 25 अगस्त 2014

दोहा - १

दीन-दुखी या पूँजीपति, थकते सबके पाँव।
बिन पूछे बूढ़ा पीपल, देता सबको छाँव॥

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

(आपकी बहुमूल्य टिप्पणियों का स्वागत है)