मंगलवार, 14 मई 2013

काश

कब आएगा इतवार ? Sunday kab hai?
काश होता ऐसा कि हर रोज इतवार होता!
हम बेफिक्र सोते और वक्त बेशुमार होता॥

ना मोटरों की पों-पों, ना बाज़ार होता।
ना कोई जलन होती, ना कोई गुबार होता॥

ना रोटी कि ज़ज्ब होती ना कोई बीमार होता।
हर जान चैन सोती, ना कोई बेज़ार रोता॥

हम सपने हज़ारों बुनते, ना कोई पहरेदार होता।
बस मम्मी की‍ डांट होती और डैडी का प्यार होता॥

ना उड़ने कि होड़ होती, ना कोई दावेदार होता।
हम बेफिक्र सोते और मौसम बहार होता॥

ज़ुल्म है कि जब भी ये सपना देखता हूँ,
घड़ी सुबह की याद दिलाती है॥
रोज़ सोमवार होता है और दिल बेहिसाब रोता है,
गोया इतवार हमेशा शनीचर के बाद हीं क्यों होता है?

#Sunday #KabHaiSunday #WhenIsSunday #WhenIsHoliday

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

(आपकी बहुमूल्य टिप्पणियों का स्वागत है)