शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

राह

राह मंज़िल की मिले तो ज़िन्दगी कि सौगात बने।
वक्‍त से वक्‍त जो चुरा लूँ तो मेरी बात बने॥

#UnknownPaths #TimeIsMoney #WayToDestination

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

(आपकी बहुमूल्य टिप्पणियों का स्वागत है)