शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2015

आभार

जब तल़क साँसें रहें और ये साल रहे,
मेरी दुआओं में आप सब की खुशी का भी ख़याल रहे ।

मिल जाउँ हवाओं में ऐसे साख-ए-संदल से जब नवाजा जाए,
किसी शख्स को 'निश्छल' के ना होने का कोई मलाल रहे ॥

-------------------------------------------------------------------

Jab talak sansein rahein aur ye saal rahe,
meri duaaon mein aap sab ki khushi ka bhi khayal rahe।
mil jaun hawaon mein aise sakh-e-sandal se jab nawaza jaye,
kisi sakhsh ko 'Nishchhal' ke na hone ka koi malal rahe॥

#जन्मदिन #2Oct #ThankYou