सोमवार, 25 अगस्त 2014

किस्मत

सोंचा था कि चाँदनी से रौशन कभी हमारा भी आँगन हो ।
पर अपने हक़ में तो बस तारों का टिमटिमाना है ॥

खिले थे फूल गुलशन में, था मौसम बहारों का ।
हवा के थपेड़ों ने हमें भेजा, वही पतझड़ पुराना है ॥

जले थे चराग बनकर हम, न जाने कितनी दयारों पर ।
जुगनुओं कि किस्मत में तो बस अंधेरे चुराना है ॥

दुआएँ माँगी थी दिल से, हमनें भी मजारों पर ।
क्या उनकी सुनता नहीं मौला, जो जगमगाते हैं ?


#TwinkleTwinkleLittleStar